Shankaracharya in jugsalai: पहली बार जमशेदपुर पहुंचे शंकराचार्य स्वामी सदानंद सरस्वती, सरना धर्म कोड की मांग को राजनीति से प्रेरित बताया

जमशेदपुर : पहली बार शहर पहुंचे द्वारका शारदापीठ के जगदगुरु  शंकराचार्य स्वामी सदानंद सरस्वती ने कहा है कि सरना धर्म कोड की मांग राजनीति से प्रेरित है. जुगसलाई के डिकोस्टा रोड स्थित शिवा रेजिडेंसी में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि आदिवासी और वनवासी मूल भारतवासी हैं और हिंदू ही है.

उन्होंने यहां आने से पहले पश्चिमी सिंहभूम समेत कई इलाकों में आदिवासियों से भी मुलाकात की. वे जहां भी गए वहां आदिवासियों द्वारा मंदिर बनाए गए थे जहां वे लोग पूजा करते है. उन्होंने उनसे भी पूजा कराई. उन्होंने कहा कि गाय में जिसकी भक्ति है, ओमकार जिसका मूल मंत्र है, पुनर्जन्म में जो विश्वास रखता है और मां पिता की पूजा करता है वहीं हिंदू है.

Also Read:  Sakchi rajsthan diwas: साकची के धालभूम क्लब में 30 मार्च को उतरेगा राजस्थान, धूमधाम से मनेगा स्थापना दिवस, होंगे कई कार्यक्रम

हिंदुओं के धर्म परिवर्तन से जुड़े एक सवाल के जवाब में शंकराचार्य ने कहा कि धर्म परिवर्तन हमारी कमजोरी और ऐसा करनेवालों (परिवर्तन कराने वालों ) का अज्ञान है. उन्होंने कहा कि धर्म परिवर्तन कराने वाले अज्ञानी है और हमारी कमजोरी है. जो शासन में है और जो धनी लोग है वे गरीबों के बीच जाकर काम नही करते है.

उन्होंने कहा कि जो एनजीओ आदिवासी क्षेत्रों में काम करते है, उनके लिए विदेशों से जो सहायता आ रही है उसमें इनकम टैक्स और जीएसटी की छूट दी जा रही है. इसपर सरकार को ध्यान देना चाहिए कि यह राशि सेवा के लिए आ रही है या धर्म परिवर्तन के लिए आ रही है. शास्त्रों के अनुसार धर्म परिवर्तन नहीं किया जा सकता.

Also Read:  Senior citizen help: जमशेदपुर में अकेले रहनेवाले बुजुर्गों को घर पर सहायक देने से लेकर हर तरह की सेवा देगी वरिष्ठ नागरिक समिति, लेगी मामूली शुल्क  

यह भी पढ़ें

Naman tiranga yatra: भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव के शहादत दिवस पर...

0
- आयोजक संस्था नमन के संस्थापक अध्यक्ष अमरप्रीत सिंह काले ने अनुशासन के साथ गौरवमय यात्रा के लिए शहरवासियों का जताया आभार जमशेदपुर : शहर...

JNAC action on road side boards: जमशेदपुर में रामनवमी झंडा विसर्जन...

0
जमशेदपुर:, अपने अद्भुत, अलौकिक और ऐतिहासिक श्रीराम नवमी झंडा जुलूस के लिए भी जमशेदपुर की खास पहचान है. हर साल रामनवमी के अगले दिन...

अभिमत

J N Tata

जे एन टाटा: जिन्होंने औद्योगिक भारत की नींव डाली

0
जे.एन. टाटा का जन्म 1839 में नवसारी में हुआ था। जे.एन. टाटा के पिता नसरवानजी टाटा ने एक देशी बैंकर से व्यापार के मूल...
कशमर-म-फर-एक-कशमर-पडत-सजय-शरम-क-हतय:-जर-ह-जनसइड-और-इस-नकर-जन-क-करम-भ

कश्मीर में फिर एक कश्मीरी पंडित संजय शर्मा की हत्या: जारी...

0
सोनाली मिश्रा जहां एक ओर सरकार इस बात को लेकर अपना दृष्टिकोण एकदम दृढ किए हुए है कि प्रधानमंत्री पैकेज के अंतर्गत कार्य कर रहे...

लोग पढ़ रहे हैं

Nitin Gadkari lays foundation of India’s first Double Decker Elevated Corridor in Jamshedpur

Nitin Gadkari lays foundation of India’s first Double Decker Elevated Corridor...

0
Union Transport Minister unpacks infrastructure bonanza in Jharkhand, lays foundations of and inaugurates 10 road projects Jamshedpur: The Union Transport and Highways Minister Nitin Gadkari...

The greatness of our MOTHERLAND

0
Swami Vivekananda If there is any land on this earth that can lay claim to be the blessed Punyabhumi (holy land), to be the land...

Feel like reacting? Express your views here!

यह भी पढ़ें

आपकी राय

अन्य समाचार व अभिमत

हमारा न्यूजलेटर सब्सक्राइब करें और अद्यतन समाचारों तथा विश्लेषण से अवगत रहें!

Town Post

FREE
VIEW