“ईसाई विमर्श को भारत में सामान्य करने हेतु साहित्य और कला और कविता का कंधा चाहिए”: सीएफ एंड्रूज़! क्या हिन्दी साहित्य अभी तक ईसाई साहित्य की परिभाषा के दायरे में ही रच रहा है?

सोनाली मिश्रा

कई पुस्तकों में एवं कई स्थानों पर मिशनरी सीएफ एंड्रूज़ को भारत प्रेमी या फिर हिन्दुओं का मित्र बताया जाता है। यह एक ऐसा मिथक है जिसे जबरन जैसे हिन्दुओं के मस्तिष्क में बैठाया गया है। क्योंकि सत्यता कहीं न कहीं बहुत अलग है। यह ऐसा ही है जैसे अपने कातिलों की प्रशंसा करना। कातिल का अर्थ यह हुआ कि जो उसके संहार के लिए तत्पर है और वह आपको विमर्श से ही मिटा देना चाहता है और उसके लिए वह आपकी बुद्धि को ही ईसाई बनाना चाहता है।

अर्थात वह पहले आपकी वैचारिक मृत्यु चाहता है और फिर आपकी धार्मिक मृत्यु, ऐसे व्यक्ति को कई कथित राष्ट्रवादी पुस्तकों में भी भारत का प्रेमी बताया गया है। परन्तु वह अपने लक्ष्य अर्थात ईसाइयत को लेकर कितने कृत संकल्पित थे, वह उनके द्वारा लिखी गयी पुस्तक THE RENAISSANCE IN INDIA ITS MISSIONARY ASPECT में स्पष्ट लिखा है कि कैसे मिशनरी ने बौद्धिक प्रपंच रचे थे।

image 26

कैसे उनका एकमात्र लक्ष्य था कि वह भारत के जनमानस से हिन्दू का इतिहास मिटाकर उन्हें ईसाईयत में रची पगी अंग्रेजी भाषा का दर्शन, भूगोल, विज्ञान आदि पढाएं। क्योंकि उनके अनुसार अंग्रेजी शिक्षा सेक्युलर ही नहीं बल्कि ईसाईयत को धारण किए हुए है।

ऐसे में जब वह हिन्दू महिलाओं के विषय में लिखते हैं तो वह यह विश्वास जताते हैं कि अभी बेशक हिन्दू महिलाऐं रामायण में बसे हुए स्त्रीत्व की बात करें, परन्तु एक दिन आएगा जब ईसाईयत का विश्वास जीतेगा। उन्होंने रामायण अर्थात राम कथा पर लिखते हुए कहा था कि भारत के गावों में रात को जब लोग काम निपटा लेते हैं तो वह रामायण के उन हिस्सों का पाठ मिलकर करते हैं, जो उन्हें सबसे अधिक पसंद है और जो व्यक्ति गाने में और व्याख्या कर सकता है तो उसका सम्मान होता है। वह लिखते हैं कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि इस पुस्तक ने भारतीय स्त्रीत्व के मानक निर्धारित कर दिए हैं।

Also Read:  राष्ट्रीय बालिका दिवस: अवसर है अपनी स्त्रियों की उपलब्धियों को स्मरण करने का, एवं कृत्रिम हीनता के विमर्श को समझने का

यह एंड्रूज़ अपनी पुस्तक में कहते हैं। परन्तु क्या अभी भी हम हिन्दू महिलाओं को लेकर यह कह सकते हैं? क्या अब स्त्रियाँ प्रभु श्री राम एवं माता सीता को उसी सम्मान से देखती हैं या फिर छद्म स्त्री विमर्श में बंधकर सीता माता को प्रभु श्री राम की प्रतिस्पर्धी बना रही हैं? यह प्रश्न इसलिए उठ खड़ा हुआ है कि आज ऐसे विमर्श उत्पन्न हो रहे हैं जिनमें कभी सीता माता, कभी उर्मिला तो कभी श्रुतकीर्ति के त्याग को पलड़े में रखकर मापा जा रहा है कि यह महान, वह महान!

जो विमर्श पूरी तरह से धार्मिक और शंका रहित होना चाहिए था, उसमें यह एजेंडा वाले प्रश्न किसने भर दिए? उसके बाद वह तोरू दत्ता की कविता, जो पूरी तरह से हिन्दू विश्वासों पर आधारित कविता है, परन्तु चूंकि तोरू दत्ता के पिता ने ईसाई रिलिजन अपना लिया था तो सीएफ एंड्रूज़ का विश्वास है कि जिन चरित्रों को तोरू दत्ता ने रचा है, उनसे ईसाई विश्वास अवश्य ही जीतेगा।

इसके बाद वह क्या लिखते हैं, उसे सही से समझना होगा क्योंकि तभी पाठक यह समझ पाएँगे कि आखिर साहित्य में हिन्दू विरोध का विमर्श क्यों है? वह लिखते हैं कि

Also Read:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी डॉक्यूमेंट्री पर अलग राय रखने पर कांग्रेसी नेता अनिल एंटोनी को पार्टी छोड़ने पर होना पड़ा बाध्य!

“मेरा विश्वास दिनों दिन बढ़ रहा है कि भारतीय स्थितियों में यदि ईसाई सन्देश को स्वाभाविक बनाना है तो यह कला, संगीत और कविता के माध्यम से ही होगा बजाय इसके कि हम विवाद करें और तर्क वितर्क करें। इंग्लैण्ड से भारत के लिए एक ऐसी मिशनरी जरूरी है जिसमें कल्पना रचने की क्षमता हो और जिसमें साहित्यिक या कलात्मक या संगीत की क्षमता हो और वह उच्च क्षमता प्राप्त लोगों के दिल में संवेदनात्मक रूप से प्रवेश कर सके।”

image 23

फिर क्या लिखते हैं उसे पढ़ें और साहित्य में जो अभी लिखा जा रहा है, उसे समझें!

“हम अपने दृष्टिकोण में बहुत ही संकुचित रहे हैं और हमें लगा कि हम भारत को अपने व्यावहारिक दृष्टिकोण एवं उच्च व्यवस्थित संस्थानों से जीत सकते हैं। परन्तु जहाँ इन दोनों ही पहलुओं ने बढ़िया काम किया है तो वहीं यह भी सत्य है कि इन्होनें आत्मा नहीं छुई है। जबकि दूसरी ओर जहाँ पूर्व के नाटकों एवं आदर्शों में कल्पनाओं का मिश्रण श्लाघनीय हैं तो वहीं इनके माध्यम से भारत के साथ जुड़ाव हुआ है!”

image 24

यहाँ एक बात यह समझने की है कि वह भारत के जुड़ाव की बात करते हैं, परन्तु वह जुड़ाव केवल इसलिए है जिससे हिन्दू विमर्श समाप्त होकर केवल और केवल ईसाई विमर्श ही स्थान बना ले। वह एक और हिन्दू से ईसाई में मतांतरित हुई कृपाबाई का उदाहरण देते हैं। कृपाबाई ने भी ईसाई धर्म की होते हुए भी हिन्दू परम्पराओं के विषय में लिखा। हालांकि कृपाबाई का जीवन भी अधिक नहीं रहा और वह 1894 में मर गयी थी। वह अपने नवजात शिशु की मृत्यु का सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाई थी।

Also Read:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी डॉक्यूमेंट्री पर अलग राय रखने पर कांग्रेसी नेता अनिल एंटोनी को पार्टी छोड़ने पर होना पड़ा बाध्य!

कृपाबाई को आधार बनाकर सीएफ एंड्रूज़ लिखते हैं कि

“वह उस प्रकार की एजुकेटेड वुमन (शिक्षित नहीं लिख रही हूँ जानते बूझते) है, जिन्हें भारत अब पैदा कर रहा है, वह कल्चर्ड हैं, परिष्कृत हैं, कल्पनाशील हैं, एवं भारत के नवजागरण की ईसाई उत्पाद हैं!”

image 25

आज जब हम हिन्दी या भारतीय साहित्य की तमाम कथित प्रगतिशील धाराओं में लिख रही वीमेन (क्योंकि वह स्त्री नहीं हैं) को देखते हैं तो यही पाते हैं कि कहीं न कहीं वह उसी परिभाषा के दायरे में लिख रही हैं जो सीएफ एंड्रूज़ ने दी थी।

“भारतीय नवजागरण की ईसाई उत्पाद!”

सीएफ एंड्रूज़ की परिभाषा वाली वीमेन ही आज विमर्श में हैं, हिन्दू विमर्श को धारण करने वाली स्त्रियाँ कहाँ है? या फिर हिन्दू स्त्री विमर्श है भी, यह भी प्रश्न उठता ही है!

(यह स्टोरी हिंदू पोस्ट की है और यहाँ साभार पुनर्प्रकाशित की जा रही है.)





(यह आलेख लेखक के व्यक्तिगत विचारों, दृष्टिकोणों और तर्कों को व्यक्त करता है। कॉलम और लेखों में व्यक्त किये गये विचार किसी भी तरह से टाउन पोस्ट, इसके संपादक की राय या इसकी संपादकीय नीतियों या दृष्टिकोण को इंगित नहीं करते हैं.)


यह भी पढ़ें

परधनमतर-नरदर-मद-पर-बन-डकयमटर-पर-अलग-रय-रखन-पर-कगरस-नत-अनल-एटन-क-परट-छडन-पर-हन-पड-बधय!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी डॉक्यूमेंट्री पर अलग राय रखने पर...

0
सोनाली मिश्रा कांग्रेस नेता राहुल गांधी इन दिनों भारत जोड़ो यात्रा में नफरत के बाजार में मोहब्बत के फूल खिलाने की बात करते हुए दिखाई...
रषटरय-बलक-दवस:-अवसर-ह-अपन-सतरय-क-उपलबधय-क-समरण-करन-क,-एव-कतरम-हनत-क-वमरश-क-समझन-क

राष्ट्रीय बालिका दिवस: अवसर है अपनी स्त्रियों की उपलब्धियों को स्मरण...

0
सोनाली मिश्रा आज के दिन भारत में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इस दिन को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इस दिन भारत की...

अभिमत

परधनमतर-नरदर-मद-पर-बन-डकयमटर-पर-अलग-रय-रखन-पर-कगरस-नत-अनल-एटन-क-परट-छडन-पर-हन-पड-बधय!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी डॉक्यूमेंट्री पर अलग राय रखने पर...

0
सोनाली मिश्रा कांग्रेस नेता राहुल गांधी इन दिनों भारत जोड़ो यात्रा में नफरत के बाजार में मोहब्बत के फूल खिलाने की बात करते हुए दिखाई...
रषटरय-बलक-दवस:-अवसर-ह-अपन-सतरय-क-उपलबधय-क-समरण-करन-क,-एव-कतरम-हनत-क-वमरश-क-समझन-क

राष्ट्रीय बालिका दिवस: अवसर है अपनी स्त्रियों की उपलब्धियों को स्मरण...

0
सोनाली मिश्रा आज के दिन भारत में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इस दिन को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इस दिन भारत की...

लोग पढ़ रहे हैं

The greatness of our MOTHERLAND

0
Swami Vivekananda If there is any land on this earth that can lay claim to be the blessed Punyabhumi (holy land), to be the land...

Feel like reacting? Express your views here!

यह भी पढ़ें

आपकी राय

अन्य समाचार व अभिमत

हमारा न्यूजलेटर सब्सक्राइब करें और अद्यतन समाचारों तथा विश्लेषण से अवगत रहें!

Town Post

FREE
VIEW