कन्हैया सिंह की हत्या के मामले में उनकी बेटी समेत चार गिरफ्तार

पुलिस के अनुसार, दो अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी चल रही है

आदित्यपुर: सरायकेला-खरसावां जिले के चर्चित हत्याकांड का शुक्रवार को पुलिस ने खुलासा कर दिया। चार व्यक्ति गिरफ्तार किये गये हैं, जबकि दो फरार हैं। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार आरोपियों में मृतक कन्हैया सिंह की बड़ी बेटी ए सिंह एवं उसका कथित प्रेमी राजवीर सिंह भी शामिल हैं।

बीते 29 जून को जिले के आदित्यपुर थाना अंतर्गत हरिओम नगर निवासी ईचागढ़ के पूर्व बाहुबली विधायक अरविंद सिंह के साले कन्हैया सिंह की हत्या कर दी गयी थी।

इस हत्या ने कोल्हान की राजनीति को गर्म कर दिया था।

तमाम आलोचनाओं को झेलते हुए अंततः पुलिस ने शुक्रवार को कन्हैया सिंह हत्याकांड से पर्दा उठा दिया।

पुलिस ने कन्हैया सिंह हत्याकांड में कुल चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

दो अन्य की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस छापेमारी कर रही है।

गिरफ्तार आरोपियों में शामिल हैं कन्हैया सिंह की बड़ी बेटी ए सिंह, उसका प्रेमी राजवीर सिंह, शूटर निखिल गुप्ता एवं सौरभ किस्कू। इन्हें गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

Also Read:  जुबिली पार्क में पेड़ की खोह से अजगर पकड़ा गया, वन विभाग ने सुरक्षित स्थान पर छोड़ा

पुलिस के अनुसार, दो अन्य आरोपियों छोटू एवं रवि सरदार की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी चल रही है।

बता दें कि कन्हैया सिंह की हत्या के बाद सत्ता पक्ष से लेकर विपक्ष और सामाजिक संगठनों ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए उसे कटघरे में खड़ा कर दिया था।

कांग्रेस, पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा, मंत्री बन्ना गुप्ता, भाजपा नेता अभय सिंह, खरसावां विधायक दशरथ गागराई सभी ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए हत्याकांड का खुलासा करने के लिए अल्टीमेटम पर अल्टीमेटम देना शुरू कर दिया था।

थाना घेराव व विरोध प्रदर्शन शुरू हो गये थे।

उधर वर्दी पर उठते सवालों को जिले के पुलिस कप्तान ने चुनौती के रूप में लिया और एसडीपीओ के नेतृत्व में 15 सदस्यीय एसआईटी का गठन कर ऑपरेशन में लगाया।

एसआईटी में आधा दर्जन थानेदार एवं इतने ही एएसआई रैंक के अधिकारियों को शामिल किया गया।

इसके अलावा टेक्निकल सेल के अधिकारियों को भी शामिल किया गया, सभी ने बेहद ही प्रोफेशनल तरीके से मिले टास्क को बखूबी अंजाम दिया और अंततः 9 वें दिन पुलिस ने कन्हैया सिंह हत्याकांड से पर्दा उठाते हुए जो खुलासे किए उससे न केवल कोल्हान बल्कि झारखंड से लेकर बिहार और यूपी की जनता सन्न रह गई।

Also Read:  बागबेड़ा में चोरी करने घर में घुसा व्यक्ति पत्थरबाजी पर उतरा, गिरफ्तार

किसी को इस बात का अंदेशा भी नहीं हुआ होगा, कि कन्हैया सिंह के घर में आग घर के ही चिराग से लगी थी।

बहरहाल, पुलिस के अनुसार, अब कन्हैया सिंह हत्याकांड से पर्दा उठ चुका है।

पुलिस ने कैसे इस गुत्थी को सुलझाया इस सवाल पर जिले के एसपी आनंद प्रकाश ने बताया कि कन्हैया सिंह की बेटी ही घटना के दिन अपने पिता के लोकेशन की पल-पल की जानकारी दे रही थी।

एसपी के अनुसार, कन्हैया सिंह की बेटी ने अपने पिता की हत्या के लिए शूटर को अपने हीरे की अंगूठी बतौर पेशगी दी थी। उन्होंने बताया कि कन्हैया सिंह अपनी बेटी के रिश्ते से खुश नहीं थे और वे इसका लगातार विरोध कर रहे थे।

पुलिस के अनुसार, हत्या के बाद निखिल सीधे राजवीर के घर मानगो गया।

Also Read:  जमशेदपुर अक्षेस ने दुर्गा पूजा पंडालों के लिए प्रतियोगिता और पुरस्कार घोषित किये

राजवीर ने उसके जूते छिपाये और कुछ पैसे दिए। उसके बाद वह बक्सर चला गया।

एसपी ने बताया कि पूरे कांड का उद्भेदन तकनीकी साक्ष्यों की मदद से किया गया है।

उन्होंने बताया कि कांड से संबंधित सभी साक्ष्य राजवीर ऑडियो क्लिप के जरिए ए सिंह को भेजता था।

घटना से 5 दिन पूर्व राजवीर ने निखिल के साथ मिलकर पूरी प्लानिंग की, जिसके बाद ए सिंह ने सहमति जताई।

फिर इस कांड को अंजाम दिया गया।

उन्होंने बताया कि सरायकेला- खरसावां कांग्रेस के जिलाध्यक्ष छोटे राय किस्कू के पुत्र सौरभ किस्कू ने हथियार मुहैया कराई थी।

इससे पूर्व एक प्रयास पहले भी किये जाने की बात उन्होंने कही, जिसमें असफल होने के बाद 29 जून को दूसरा प्रयास किया गया और कन्हैया सिंह को प्लानिंग के जरिए रास्ते से हटा दिया।

चारों अभियुक्तों के पास से पुलिस ने 4 मोबाइल, एक कट्टा, खोखा के साथ टी-शर्ट और गमछा, एक जूता और ए सिंह की हीरे की अंगूठी अभियुक्त निखिल के घर से बरामद की।

Feel like reacting? Express your views here!

यह भी पढ़ें

आपकी राय

अन्य समाचार व अभिमत

हमारा न्यूजलेटर सब्सक्राइब करें और अद्यतन समाचारों तथा विश्लेषण से अवगत रहें!

Town Post

FREE
VIEW