एनडीआरएफ की टीम ने बागबेड़ा बड़ौदा घाट में खरकई नदी से किशोर का शव निकाला

गुरुवार को प्रिंस अपने पूर्व के चार स्कूली दोस्तों के साथ बागबेड़ा बड़ौदा घाट पर नदी में नहाने आया था और नहाने के क्रम में वह डूब गया था

जमशेदपुर: जमशेदपुर के बागबेड़ा थाना अंतर्गत बड़ौदा घाट नदी में डूबे 17 वर्षीय प्रिंस कुमार गुप्ता का शव रांची से आये 16 सदस्यीय एनडीआरएफ टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद ढूँढ़ निकाला। प्रिंस अपने चार दोस्तों के साथ बर्मामाइंस से बड़ौदा घाट नदी नहाने आया था, जहाँ वह नहाने के दौरान नदी में डूब गया।

17 वर्षीय प्रिंस कुमार गुप्ता ने इलाहाबाद के निकट स्थित अपने गांव में रहकर मैट्रिक की परीक्षा दी थी। 4 दिन पहले ही 64% के साथ वह मैट्रिक की परीक्षा में उत्तीर्ण हुआ था।

परीक्षा देने के बाद वह जमशेदपुर के बर्मामाइंस स्थित इंदर सिंह कॉलोनी में अपने पिता के पास रहने आया था।

उसके पिता एक प्राइवेट कंपनी में निजी सुरक्षाकर्मी के तौर पर कार्यरत हैं।

गुरुवार को प्रिंस अपने पूर्व के चार स्कूली दोस्तों के साथ बागबेड़ा बड़ौदा घाट पर नदी में नहाने आया और नहाने के क्रम में वह डूब गया।

प्रिंस को डूबता देख उसके दो साथी नदी तट से भाग खड़े हुए।

वहीं दो अन्य साथियों ने इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी, जिसके बाद बागबेड़ा पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और उसने स्थानीय गोताखोरों की मदद से प्रिंस को खोजने की कोशिश की। लेकिन प्रिंस का पता नहीं चल पाया।

इसके बाद, उपायुक्त के निर्देश पर रांची धुर्वा से एनडीआरएफ की टीम को बुलवाया गया। 16 सदस्यीय एनडीआरएफ की टीम ने बागबेड़ा थाना अंतर्गत बड़ौदा घाट पहुँचकर नदी से दिवंगत प्रिंस कुमार गुप्ता के शव को खोज कर बाहर निकाला। जानकारी देते हुए बागबेड़ा थाना प्रभारी के के झा ने बताया कि नदी में डूबे 17 वर्षीय प्रिंस कुमार गुप्ता के शव को बरामद कर लिया गया है तथा शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें

अभिमत

सरकार-के-कदमों-से-भारतीय-इस्पात-उत्पादन-और-निर्यात-को-बढ़ावा-मिला-है:-कुलस्ते

सरकार के कदमों से भारतीय इस्पात उत्पादन और निर्यात को बढ़ावा...

सरकार द्वारा इस्पात उत्पादन और निर्यात को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करते हुए कई उपाय किए गए हैं, जो भारतीय इस्पात उद्योग में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं. DESK- केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने आज राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में इस्पात उद्योग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सरकार
हदओ-क-सत-परथ-पर-शरम-कय-नह-आन-चहए?-शरम-क-सधन-य-गलत-समझ-जन-वल-परपर?-–-टउन-पसट

हिंदुओं को सती प्रथा पर क्या शर्मिन्दा नहीं होना चाहिए? सुनिए...

0
पद्मश्री डॉ. मीनाक्षी जैन सती प्रथा के ऐतिहासिक संदर्भ, चुनौतीपूर्ण आख्यानों और भ्रांतियों को दूर करने पर प्रकाश डालती हैं।

लोग पढ़ रहे हैं

Feel like reacting? Express your views here!

यह भी पढ़ें

आपकी राय

अन्य समाचार व अभिमत

हमारा न्यूजलेटर सब्सक्राइब करें और अद्यतन समाचारों तथा विश्लेषण से अवगत रहें!

Town Post

FREE
VIEW