जमशेदपुर में भाषा को लेकर विरोध जारी, राज्यपाल को मांगपत्र

जमशेदपुर: झारखंड राज्य में भाषा को लेकर लगातार विवाद बढ़ रहा है, झारखंड चयन आयोग के परीक्षा में हर जिले में उर्दू भाषा को शामिल करने और हिंदी भाषा समेत कई अन्य भाषाओं को बाहर किये जाने का विरोध लगातार जारी है.

झारखंड भाषा संरक्षण मंच ने इस विषय को लेकर राज्य के राज्यपाल को मांग पत्र सौंपा है.

इस दौरान मंच के नेताओं ने कहा कि उर्दू केवल एक समुदाय की भाषा है, जिसे जबरन झारखंड सरकार ने सभी जिलों में शामिल कर दिया है. लेकिन राष्ट्रभाषा हिन्दी समेत भोजपुरी, अंगिका, मगही, मैथिली जैसी भाषा को चयन आयोग के परीक्षा से बाहर कर दिया है, जिससे राज्य में उबाल है.

Also Read:  उपायुक्त विजया जाधव व आला अधिकारियों ने महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धांजलि दी

उन्होंने कहा कि राष्ट्र भाषा हिंदी जो शहरों से लेकर गांवों में बोली समझी और लिखी जाती है, उसे बाहर किया गया है जिसे बर्दाश्त नही किया जाएगा और इस कारण से राज्य के राज्यपाल के समक्ष इन भाषाओं को शामिल किए जाने की मांग उठाई गई है. 

हिंदी एवं अन्य भाषाओं को झारखंड की परीक्षा में शामिल न करने के विरोध में जमशेदपुर में राज्यपाल को मांग पत्र सौंपा गया.

Feel like reacting? Express your views here!

यह भी पढ़ें

आपकी राय

अन्य समाचार व अभिमत

हमारा न्यूजलेटर सब्सक्राइब करें और अद्यतन समाचारों तथा विश्लेषण से अवगत रहें!

Town Post

FREE
VIEW